Hindi love Poetry : प्रेम का उपहार पहला पहला प्रिय अश्क कैसे दूँ तुम्हें – Ranjan Kumar

0

love boxes

चाहते हो
बाँट लेना
सब गम मेरे तुम ,

पर किस तरह
उपहार में
आंसू तुम्हे दूँ ?

संकोच में
है मन मेरा
दुविधा बड़ी है ..

प्रेम का उपहार
पहला पहला प्रिय
अश्क कैसे दूँ तुम्हें ?

– रंजन कुमार