Hindi Poetry Inspirational : तुम हो गाफिल – Ranjan Kumar

0
रास्ते दुश्वार हैं 
और तुम हो गाफिल ,
क्या तुझे यह पता है ?
आधा-अधूरा ही कटा ,
तुझे उस सफ़र का 
वास्ता है,अब जगो… !!
– रंजन कुमार