Spiritual Hindi poetry : दीवानगी प्यार की तेरे – Ranjan Kumar

0
book art
दीवानगी प्यार की तेरे 
कुछ इस कदर,
चढ़ जाये मुझ पर,
जर्रे जर्रे में तुझे महसूस करूँ 
और तेरी रहमतों में खो जाऊं !
 
दीदार खुली आँखों से 
हो हर दम तेरा,
तेरी उम्मीद में जागूं 
सुबह होने तक 
तेरे इन्तजार में ही सो जाऊं !
रहम करना 
इस बार न खाली जाऊं ,
युगों के बाद जगा हूँ ,
जगा रहूँ उस पार जाने तक 
कहीं गाफिल न हो जाऊं !!
– रंजन कुमार