Hindi poetry on love : वो बेपनाह मोहब्बत तेरी – Ranjan Kumar

0

romantic love hug

मेरी आदतों में 
शुमार हो गयी थी ,
वो बेपनाह 
मोहब्बत तेरी ,

बेशुमार ग़मों से 

बोझिल है जिन्दगी ,
रुखसत तेरे 
होने के बाद !!

– रंजन कुमार