Hindi poem ” मैं रहूँ न रहूँ ” – Ranjan Kumar

0

Rose with diya light

सब गुजरते लम्हों को ,
संभाल कर रखना !

मैं रहूँ न रहूँ ,

ये साथ रहेंगे हरदम तेरे !!

– रंजन कुमार