मेरा यह जीवन समर्पित है सिर्फ उनके नाम

उलझन भरी राहों पर
चलते चलते एकाएक
जो मुड़ गए ,
जो चलते थे हर कदम
मेरे साथ साथ
जो राहों में बिछड़ गए ,

मेरा यह जीवन समर्पित है
सिर्फ उनके नाम !

आकाश के तारे
तोड़ लाने का किया था वादा
कभी चाँद तारो के बीच ,
उनसे कैसे करूँ
मै कोई शिकायत
जिन्होंने दी जिन्दगी की सीख ,

मेरी ये कोमल भवनाएँ समर्पित हैं
सिर्फ उनके नाम !

रग रग़ में बन कर लहू
बरसों से
जो बहते हैं दिन रात,
जो बसते हैं दिल में
बनकर मेरी धड़कन
जो घुल चुके हैं मेरी श्वासों के साथ ,

मेरा यह जीवन
समर्पित है सिर्फ उनके नाम !

– रंजन कुमार

Leave a Comment

Share
Pin
Tweet
Share
Share