Hindi Poetry : कुछ प्यार के वादे अब भी हैं

0
heart with hands
यादों की चादर ओढ़े जब ,
तेरी गली से मेरा गुजर हुआ ,
 
महसूस हुआ इन राहों में ,
चाहत की खुशबू अब भी है !
 
मै जान गया ऐ नूर ए नजर ,
कुछ प्यार के वादे अब भी हैं !!
 
– रंजन कुमार