कभी न घबराना तुम गम के जंगल में , आएगा दिन गर रात है आई !

0
moon shining in the dark forest night

कभी न घबराना तुम
गम के जंगल में ,
आएगा दिन गर
रात है आई ,

विश्वास तू करना खुद

पर रब से भी ज्यादा ,
फिर होगी सुबह
गर शाम है आई !

सपने देखो ऐसे जो

तुम्हे आबाद करे ,
इस जीवन में हर बंधन
से आजाद करे !

लब पर अपने फरियाद

न तुम आने देना,
चाहे दुःख की घनी
बदली हो छाई !!

विश्वास तू करना खुद

पर रब से भी ज्यादा ,
फिर होगी सुबह
गर शाम है आई !

क्या ऐतबार मेरे प्यार

का तुम कर सकती हो ,
गर राहों में कांटे भी
मिले चल सकती हो ?

तो आओ रख दो हाथ

मेरे इन हाथो में ,
देखो कैसी बहार
बसन्ती पवन है लाई !

विश्वास  तू करना खुद

पर रब से भी ज्यादा ,
फिर होगी सुबह
गर शाम है आई !

जीवन में खुशियाँ अपने

आप नहीं मिलती,
सागर से सीप की तरह
ही ढूंढ़नी है पड़ती !

कभी न रखना किसी

से कुछ भी उम्मीदें ,
कुछ मिल जाये तो उसमे
खुशियाँ बहुत समायी !!

विश्वास तू करना खुद

पर रब से भी ज्यादा ,
फिर होगी सुबह
गर शाम है आई !

कभी न घबराना

तुम गम के जंगल में ,
आएगा दिन
गर रात है आई !

विश्वास तू करना खुद

पर रब से भी ज्यादा ,
फिर होगी सुबह
गर शाम है आई !!

– रंजन कुमार