मुझको बहलाने में तुम खुद ही बिखर मत जाना

small boat sailing in the sea

मेरे हालात सुलझाने में
मुसीबत में घिर मत जाना ! 
मुझको बहलाने में तुम 
खुद ही बिखर मत जाना !!

गर्दिशों के दिन हैं मेरे 

तकाजा है वक़्त का सुन लो ,
गुस्ताखिओं पे गैरों सा 
तुम भी बिफर मत जाना !!

टकराता है नरम दिल 

सख्त दुनिया की चट्टानों से ,
इसकी होती है क्या गत 
देख , तुम डर मत जाना !!

जीना भी न कम मुसीबत

से जमावड़ा बेईमानो का ,
खींचने आयेंगे तुम्हें , ऐसी 
किश्ती में उतर मत जाना !! 

– रंजन कुमार

Ranjan Kumar
Ranjan Kumar

Founder and CEO of AR Group Of Institutions. Editor – in – Chief of Pallav Sahitya Prasar Kendra and AR Web News Portal.

Motivational Speaker & Healing Counsellor ( Saved more than 120 lives, who lost their faith in life after a suicide attempt ).

Author, Poet, Editor & freelance writer. Published Books :

a ) Anugunj – Sanklit Pratinidhi Kavitayen

b ) Ek Aasmaan Mera Bhi

Having depth knowledge of the Indian Constitution and Indian Democracy.

For his passion, present research work continued on Re-birth & Regression therapy ( Punar-Janam ki jatil Sankalpanayen aur Manovigyan ).

Passionate Astrologer – limited Work but famous for accurate predictions.

Articles: 300