कहाँ तक तलाशोगे वजूद मेरा ? – Ranjan Kumar

0

lost boy

कहाँ तक तलाशोगे
मेरा वजूद आखिर ?
.
बिछड़ के जर्रे जर्रे
में बिखर गया हूँ मैं !!

– रंजन कुमार