ये दौर और सत्य – रंजन कुमार

ये दौर और सत्य
बस सच की तलब थी,
न्याय मेरी आंखों में बोलता था,
और रोना नहीं आया कभी,
तो मैं यूँ ही उनके द्वारा
एक खिलौना बना लिया गया !
वो रोने का हुनर जानता है
और साथ ही झूठ बोलना भी,
इसलिए वह सफल खिलाड़ी
समझे बैठा है खुद को..
हर फन में माहिर बता बता के . !
ये संक्रमण का दौर है पगले,
खेल खत्म होगा एक दिन,
रोना धोना उस दिन
किसी काम न आएगा,
और सत्य तुझे तेरा नंगापन
सरेयाम दिखाएगा ..!
Share
Pin
Tweet
Share
Share