जो आँधियों ने तिनका – तिनका घोसला बनाये रक्खा है

https://rnjnkmr.blogspot.com/2018/11/Aandhiyon-ne-tinka-tinka-ghosla-banaye-rakha-hai.html
चराग उनका अक्सर
बारिशों से बचाये रक्खा है ,

 जिनने हमसे सिर्फ एक
कारोबारी रिश्ता रक्खा है !


समझतें हों समझने वाले
आँसुओं की कीमत लाख सही ,

अपना भी एक दायरा है,
उदासियों को समझा रक्खा है!


वैसे तो जुदाइयों का समंदर पार
करके आते रहे आने वाले ,

बेवजह तो नहीं खुदा ने पत्तों
को हरा, कुछ को पीला रक्खा है !


करिश्में हैं, सजा है , या
शायद तन्हाइयों का दौर है ,

कोई तो वजह है, जो तकदीर
ने यूँ अकेला रक्खा है !


खुदाया – तहरीर है तेरी ,
क्या कुछ उम्मीद लिखी हुई?

जो आँधियों ने तिनका – तिनका
घोसला बनाये रक्खा है !! 


– Vvk
Ranjan Kumar
Ranjan Kumar

Founder and CEO of AR Group Of Institutions. Editor – in – Chief of Pallav Sahitya Prasar Kendra and AR Web News Portal.

Motivational Speaker & Healing Counsellor ( Saved more than 120 lives, who lost their faith in life after a suicide attempt ).

Author, Poet, Editor & freelance writer. Published Books :

a ) Anugunj – Sanklit Pratinidhi Kavitayen

b ) Ek Aasmaan Mera Bhi

Having depth knowledge of the Indian Constitution and Indian Democracy.

For his passion, present research work continued on Re-birth & Regression therapy ( Punar-Janam ki jatil Sankalpanayen aur Manovigyan ).

Passionate Astrologer – limited Work but famous for accurate predictions.

Articles: 300