तेरे रोने तड़पने का – तेरे कसमों वादों का कोई असर न होगा

0
alone girl in the woods

उस दिन सूरज
मेरे सिरहाने आ पुकारेगा 
और चाँद पायताने मुस्कुराएगा,

गोधूलि की पावन बेला मे 
चाँद और सूरज जब मिल रहे होंगे,
मैं तब विदा लूँगा तुमसे,
.
सूरज के साथ बहुत दूर निकल जाऊँगा,
तेरे लिए चाँद के उजाले 
और अपनी बेशुमार यादें छोड़ जाऊँगा !
.
अगली सुबह सूरज फिर आएगा 
पर मैं मौत की दुल्हन के आगोश मे
बस दूर से खिलखिलाउंगा …
तेरे रोने तड़पने का तेरे कसमों वादों का
मुझपर उस दिन कोई असर न होगा,

तुम चाहो तो उस दिन मुझे ,
जिंदगी भर की मेरी वफादारिओं का 
वास्ता दे देकर बेवफा कह लेना …!!

– रंजन कुमार