सितारों तुम गवाह रहना मैंने कोशिशें की तो थी

sky full of stars

कभी फुर्सत में सोचूंगा ,
खोया क्या और पाया क्या ?
अभी तो दूर चलना है ,
ये बस आगाज ही तो है !

सफ़र मुश्किल है , 

मुमकिन है निशां 
मिट जाए राहों में ,

सितारों तुम गवाह रहना
मैंने कोशिशें की तो थी !!


– रंजन कुमार

Share
Pin
Tweet
Share
Share