Hindi Poetry: अस्तित्व नहीं कुछ भी ..

0
small girl walking in the forest

अस्तित्व नहीं कुछ भी ,
बहारों का, नजारों का ,
इन फूलों पत्थरों और 
पहाड़ों का !

अगर तुम नहीं शामिल,

इन बहारों में ,
नजारों में,
और इस जिन्दगी के,
किनारों में !!

– रंजन कुमार