आँधियाँ बुझा गयीं, चराग जो ..

0

small boat sailing in the sea

आँधियाँ बुझा गयीं ,
चराग जो ..
 
अफसोस उनपे 
भी करके अब 
हासिल क्या ?
 
कि चलो अब 
साहिल के ,
खौफ से ..
 
डूबती किश्तियों
को बचाते हैं !!
 
– Vvk