लोग मिलते रहें, बिछड़तें रहें.. सफर आखिर लिखा तन्हा था, चलता रहा !

0

alone boy

मुसलसल हादसों का सिलसिला .. चलता रहा , 
बारिश होती रही,शाख से पत्ता-पत्ता टूटता रहा !
.
लोग कुछ जों बैठें थे .. रौशिनी की फ़िराक में ,
सूरज को भी फर्क किआ, आखिर डूबता रहा !
.
समंदर के किनारे बनते घरौंदें..बहा ले गयी लेहर ,
तब भी कोई ज़द पर फिर-फिर घरौंदें बनाता रहा !
.
भीड़ का किआ है , मिलतें हैं – बिछड़ जातें हैं , 
सफर आखिर .. लिखा तन्हा था , चलता रहा !

– Vvk