कभी गधा भी बाप, और कभी बाप भी गधा !

0
urx

चापलूसों और स्वार्थी लोगों के लिए कोई रिश्ता नही होता .. जरूरत पड़ने पर गदहे को बाप और बाप को गधा कहने मे पल भर की भी देर नही करते !
जिस सीढ़ी को पकड़ ऊपर चढ़ना सीखा ऊपर पहुंचते ही उसे ही लात मार गिराना इनका पहला काम होता है और जिस थाली मे खाई उसमे छेद करना इनकी फितरत !

खुद के फायदे के सिवा किसी और की कभी ये लोग सोचते नही .. नया दिन फिर नई कोई सीढ़ी नए बाप नई थाली !! 

– रंजन कुमार