Hindi Poetry: चांदनी दुष्टा कुलच्छिनी ये बता – Ranjan Kumar

0
woman sitting alone
चांदनी
दुष्टा ,
कुलच्छिनी,
 
ये बता ….
देखती रहती है 
सब अपराध तू ,
 
मौन होकर ..
होंठ सिलकर ,
पर नहीं देती
गवाही सत्य की ,
 
तो फिर बता
कैसे है सुंदर तू ,
और तेरी ये प्रभा ?
 
– रंजन कुमार