Krishna Vandana: आ इन डूबती नब्जों का सहारा बन जा

Krishna Vandana
आ इन डूबती नब्जों का सहारा बन जा
दम तोडती उम्मीदों का किनारा बन जा !

एक अंधेरी रात है ,उम्मीद नहीं अब कोई,

पथ दिखलाने को तू एक सितारा बन जा !

अब तो वफाओं पे भी ऐतबार नहीं होता है,

कहते हैं लोग मुझे तू भी आवारा बन जा !

तेरे बिन अब तो कौन रास रचाए कान्हा,

नफरतों की दुनिया में जश्ने बहारा बन जा !

देख मेरी दुनिया में  हर तरफ अँधेरे हैं ,

रौशनी मिलेगी तभी तू जो हमारा बन जा !

आ इन डूबती नब्जों का सहारा बन जा

दम तोडती उम्मीदों का किनारा बन जा !!
Ranjan Kumar
Ranjan Kumar

Founder and CEO of AR Group Of Institutions. Editor – in – Chief of Pallav Sahitya Prasar Kendra and AR Web News Portal.

Motivational Speaker & Healing Counsellor ( Saved more than 120 lives, who lost their faith in life after a suicide attempt ).

Author, Poet, Editor & freelance writer. Published Books :

a ) Anugunj – Sanklit Pratinidhi Kavitayen

b ) Ek Aasmaan Mera Bhi

Having depth knowledge of the Indian Constitution and Indian Democracy.

For his passion, present research work continued on Re-birth & Regression therapy ( Punar-Janam ki jatil Sankalpanayen aur Manovigyan ).

Passionate Astrologer – limited Work but famous for accurate predictions.

Articles: 300